जीरो टू वन : एक स्टार्टअप सोच

Updated: Oct 29, 2018



नई तकनीक नए उद्यमों से शुरू होती है जिसे स्टार्टअप कहते है। राजनीति में संस्थापक पिता से विज्ञान में, रॉयल सोसाइटी से फेयरचिल्ड सेमीकंडक्टर के व्यापार में, मिशन की भावना से जुड़े लोगों के छोटे समूहों ने दुनिया को बेहतर बनाने के उदेश्य से काम किया और दुनियां को बेहतर बना दिया है। इसके लिए सबसे आसान स्पष्टीकरण है: बड़े संगठनों में नई चीजों को विकसित करना मुश्किल है। नौकरशाही पदानुक्रम, धीरे-धीरे बढ़ते हैं, और लाभों को हानि पहुँचने के डर से दूर रखते हैं। स्टार्टअप इस सिद्धांत पर काम करते हैं कि आपको सामान प्राप्त करने के लिए अन्य लोगों के साथ काम करने की ज़रूरत है, लेकिन आपको भी इतना छोटा रहने की आवश्यकता है ताकि आप वास्तव में वह काम कर सकें।


यदि आप एक टाइपराइटर लेते हैं और वैसे ही 100 टाइपराइटर बनाते हैं, तो आपने क्षैतिज प्रगति की है। यदि आपके पास टाइपराइटर है और आप वर्ड प्रोसेसर बनाते है, तो आपने लंबवत प्रगति की है।

सकारात्मक रूप से परिभाषित, स्टार्टअप उन लोगों का सबसे बड़ा समूह है जिन्हें आप एक अलग भविष्य के निर्माण की योजना के बारे में समझ सकते हैं। एक नई कंपनी की सबसे महत्वपूर्ण ताकत नई सोच है: जो अपने सहचरों को सोचने के लिए आवश्यक स्वतन्त्रता प्रदान करती है। यह "जीरो टू वन" पुस्तक उन प्रश्नों के बारे में है जिनके आपको उत्तर जानना चाहिए की नई चीजों की खोजों में सफल कैसे हुआ जाये। ज्ञान का कोई मैनुअल या रिकॉर्ड नहीं होता है, बल्कि यह सोचने का एक अभ्यास है। क्योंकि स्टार्टअप को भी यही करना है। प्रश्नों से प्राप्त विचारों के माध्यम से व्यवसाय पर पुनर्विचार करना व उसमें आवश्यक बदलाव लाकर दुनियां के जीवन स्तर में बदलाव लाना।

Zero to One by Peter Thiel


119 views0 comments