What is Success? Business and Associate Hindi Audiobook


What is Success hindi audiobook
What is Success? Hindi Audiobook - Chapter 2

Chapter 2 : Business and associate


इस Hindi Audiobook चैप्टर एक में बताए गए आखिरी तीन गुण यह बताते है, कि व्यक्ति उस बिजनस का सिलेक्शन करे, जिसके लिए वह सबसे ज्यादा उपयुक्त है। What is Success में लेखक बताते है कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि इंसान की सक्सेस उसके बिजनस से बहुत निकट से जुड़ी होती है। जब हम बिजनसेस की स्टडी करते है, तब हमें पता चलता है, कि बिजनस को हम मुख्य चार ग्रुप्स में बाँट सकते है:

  1. प्रोफेशनल्स ग्रुप - जिसमें मेडिसन, लिटरचर, लॉ, धर्मगुरु और अन्य प्रोफेशनल्स।

  2. मकैनिकल ग्रुप - जिसमें इंजीनियरिंग, बिल्डिंग बनाना, मैन्यफैक्चरिंग, और इसी तरह के अन्य प्रोफेशन।

  3. सेल्स ग्रुप - जिसमें सेल्स, ऐड्वर्टाइज़िंग और मार्केटिंग के सभी फेज शामिल है।

  4. रॉ मटीरीअल ग्रुप - जिसमें ऐग्रिकल्चर, फॉरिस्ट्री, माइनिंग और बेसिक कोमोडिटी पर्डक्शन शामिल है।

ऐसे बहुत कम लोग है जो इन सभी चारों ग्रुप्स में फिट होते हैं। अधिकांश तो इन ग्रुप्स में से केवल एक में ही फिट होते है। इसलिए, सक्सेस की तैयारी करने में पहले, यह तय करना सबसे इम्पॉर्टन्ट होता है कि आप खुद का अनैलिसिस इस तरह से करें, जिससे आप यह समझ सकें की आप कौनसे बिजनस ग्रुप में सबसे ज्यादा फिट बैठते है।


लेकिन इसमें ध्यान रखने वाली बात यह है की, इस तरह के अनैलिसिस में बहुत ज्यादा समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। यदि कोई एक नैच्रल सेल्समैनहै, और ग्रुप तीन के लिए सबसे फिट है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि फिर वह क्या बेचता है, जब तक कि वह कुछ ऐसा सेल करता हो जो लोगों को खुश और बेहतर बनाता है। उसी तरह, जो आदमी ऐग्रिकल्चर में सक्सेस होगा, वह शायद फॉरिस्ट्री में भी सक्सेस होगा। हमेशा यह ध्यान रखें की आपको हमेशा उस ग्रुप से बाहर रहना चाहिए जिसके लिए आप फिट नहीं है; लेकिन सही ग्रुप का सिलेक्शन करने के बाद आप उस ग्रुप के स्पेशल डिविजन को लेकर ज्यादा भागम भाग नहीं मचानी चाहिए।



क्योंकि हर लाइन और हर डिवीजन में बहुत बड़े बड़े अवसर हैं। लंबे समय बाद, ये अवसर अपने आप एक दूसरे के बराबर हो जाते हैं। वे लाइंस जो अभी सबसे ज्यादा प्रामिसिंग दिखती है, वे जल्द ही भीड़भाड़ वाली हो जाएँगी, और आज जो लाइंस अन-पॉपुलर लग रही है, वे कुछ वर्षों बाद सबसे ज्यादा अट्रैक्टिव हो सकती हैं।


हर इंसान को स्वयं उस ग्रुप का सिलेक्शन करना चाहिए, जिसमें वह जीवन भर लगा रहे। लेकिन जब एक बार आप उस डिसिशन पर पहुँच जाते है तो गाइडन्स के लिए अपने इष्टदेव पर भरोसा करें और उससे अपना मार्गदर्शन मांगे। इस hindi audiobook के अनुसार जब आपने सही निर्णय ले लिया है, तब सक्सेस के लिए यह आवश्यक है की उसके बाद अपने आप को उसमें समर्पित कर दो यानि उसके प्रति अन-कन्डिशनल सरेन्डर कर दो, फिर अपने आप को भूल जाओ और निःस्वार्थ भाव से उसमें लग जाओ।


Rich Dad Poor Dad hindi audiobook >>


यह मोस्ट इम्पॉर्टन्ट है कि वे सभी उन कन्सर्न और इन्डविजूअल के साथ काम में लग जाएँ जो आपके डिसीजन को सही डिरेक्शिन में ले जाने में कैपबल हों। आप जानते है की हम सभी गलतियाँ करते रहते हैं, और कभी कभी हिपक्रिटिकल या कम से कम इँकोनसिस्टेंट यानि असंगत काम भी करते हैं। हालांकि, हम में से कुछ सही प्रिन्सपल के अनुसार जीने और काम करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं, जबकि बाकी इसके प्रति एक उदासीन रहते हैं। इंसान को खुश रहने के लिए अपने पसंद के काम को या उसे सफल बनाने में सहायक काम में लगे रहना चाहिए।


हर किसी को सही काम करने का प्रयास करना चाहिए, भले ही वह अक्सर अपने प्रयास में फेल हो जाए। फिर चाहे वह एक संपलॉयर हो, एक बिजनस पार्टनर हो, या फिर अपनी अर्धानग्नी का सिलेक्शन करना हो, केवल उन्हीं लोगों पर विचार करना चाहिए जो आपकी तरह आप पर विश्वास करते हों और जिनके साथ आप प्रेयर और वर्शिप कर सकते हैं। यानि आपके और आपके सिलेक्शन के विश्वास अलग अलग न हो, उनमें कुछ समानता, एकरूपता अवश्य हो।


आप स्वयं चाहे कितने भी मजबूत क्यों न हों, आपकी सक्सेस आपके एमपलॉयर या आपके पार्टनर की सक्सेस के साथ जुड़ी हुई होती है। यदि आपके सफल होने के लिए आपकी आस्था किसी एक खास विचार में होती है तो यह बेहद आवश्यक है, की आपके एमपलॉयर और आपके बिजनस पार्टनर की भी आस्था उस विचार में होनी चाहिए। सक्सेस के लिए यह मोस्ट इम्पॉर्टन्ट है कि व्यक्ति को किसी भी दूसरे सब्सिडीएरी क्वालिटी को सक्सेस के साथ कन्फ्यूज़ नहीं करना चाहिए।


उदाहरण के लिए, इंडस्ट्री बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन धन या भूमि की तरह यह भी एक मात्र कन्वैअर या ब्रिज है जो किसी भी गलत समय पर टूट सकता है। इसी तरह इस hindi audiobook के अनुसार इन्टेलिजन्स, इनिश्यटिव और बाकी सभी के बारे में भी यही सच है। ये सभी केवल टूल्स हैं जिनका use या तो कन्स्ट्रक्ट करने के लिए किया जाता है या फिर डिस्ट्रॉइ करने के लिए किया जा सकता है।


Avchetan Man Ki Shakti Audiobook Hindi >>


सक्सेस का इम्पॉर्टन्ट फैक्टर इन टूल्स को रखने वाले व्यक्ति का मोटिव, पर्पस और ऐम्बिशन होता है। यह मोटिव, पर्पस और ऐम्बिशन आपकी आस्था का एक प्रोडक्ट है। इसलिए यह इम्पॉर्टन्ट है कि हम उन लोगों के साथ और उनके लिए काम करें जो अपनी आस्था के आधार पर इसे बिल्ड कर रहे हैं। आस्था और इन छह गुणों के बारे में पहले से ही बताया जा चुका है। बहुत सारे अच्छे लोग कभी सफल नहीं हुए, क्योंकि वे उन लोगों के लिए या उनके साथ काम कर रहे हैं जिनके पास आस्था का आधार नहीं है।


ऐसे भले इंसान ने अपना घर बेशक “चट्टान पर” बनाया होगा; परन्‍तु उसने आपके घर, चट्टान और सब कुछ को दूसरे की बालू रेट पर बसा दिया है! इसी वजह से दूसरा व्यक्ति सक्सेस होने में फेल रहा, और इसलिए अच्छे व्यक्ति को भी ऐसा ही नुकसान उठाना पड़ा।


आज तक के आंकड़े स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि सक्सेस पूरी तरह से हमारे इम्प्लॉइअर और स्पष्ट विवेक रखने वाले सहयोगियों पर निर्भर है। इसका मतलब यह नहीं है कि इस hindi audiobook के अनुसार एक आदमी संदिग्ध तरीकों से पैसा, प्रभाव या प्रसिद्धि हासिल नहीं कर सकता है। लेकिन इस प्रकार का धन या प्रसिद्धि शायद ही कभी उसके मालिक या उसके बच्चों को कोई स्थायी लाभ देता है। यही कारण है कि जब युवा पीढ़ी अपनी आस्था के कंट्रोल में आई तो बहुत सारी चिंताएं खत्म हो गईं।


स्वाभाविक रूप से मैं भौतिक समृद्धि की निंदा नहीं कर सकता, क्योंकि मैंने अपना जीवन लोगों को ऐसी समृद्धि हासिल करने में मदद करने के लिए समर्पित कर दिया है। चूंकि मेरी आय इस तरह के काम से होती है, इसलिए मैं इसे कम करके नहीं आँकता हूँ। एक परिवार को रहने के लिए, शिक्षा, और कुछ लग्शरी के लिए एक निश्चित मात्रा में मटीरीअल प्रास्पेरिटी आवश्यक है। इस पुस्तक के प्रत्येक पाठक के पास अपने परिवार की जरूरतों के लिए आवश्यक सभी भौतिक समृद्धि होनी चाहिए।


हालाँकि, किसी के परिवार की मदद करने और अपने परिवार को समर्थन देने में बहुत अंतर होता है। अपने बच्चों को उनकी जरूरतों के लिए पर्याप्त से अधिक छोड़ना उन्हें मजबूत करने के बजाय कमजोर करता है; यह एक सहायता के बजाय एक प्रलोभन बन जाता है, इस प्रकार अक्सर अच्छे के बजाय नुकसान पहुंचाता है।


The Alchemist Hindi Audio Book >>


इसी कारण से, हमारे इम्प्लॉइअर या पार्टनर का स्वास्थ्य अच्छा होना चाहिए। स्वास्थ्य काफी हद तक मनुष्य के धर्म या उसकी जीवन पद्धति पर निर्भर करता है। इस hindi audio book के अनुसार ऐसे कई उदाहरण हैं जहां लोग खराब हेल्थ के चलते भी सफल हुए हैं। और ऐसे भी कई उदाहरण हैं जहां किसी हेल्थ उसकी सबसे बड़ी सफलता आने से, पहले एक वर्ष या उससे अधिक समय में खराब हो गई थी।


बहुत बार, एक बीमारी के कारण व्यक्ति को अपने खोए हुए स्वास्थ्य के मूल्य का एहसास होता है ताकि स्वास्थ्य प्राप्त करने पर आने वाले वर्षों में इसे और अधिक सावधानी से रखा जा सके। कभी-कभार बीमारी के वरदान भी साबित हो सकती है, क्योंकि यह व्यक्ति को अपना असर लाने और अपने अक्षांश और देशांतर को निर्धारित करने का मौका देती है।


अच्छी हेल्थ, एक नॉर्मल कन्डिशन होती है, ज्यादातर लोग अच्छी हेल्थ का आनंद लेते हुए, तीन अंकों तक या उसके करीब समय तक जीने के लिए नियत है। यदि एक नॉर्मल व्यक्ति, नॉर्मल रूप से रहता है, तो यह एक लंबे और स्वस्थ जीवन का एक स्वाभाविक परिणाम होगा। इसका अर्थ है कि व्यक्ति को अपने भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाना चाहिए; ज्यादा से ज्यादा पानी पिन चाहिए, गहरी सांस लेनी चाहिए और किसी भी तरह के उत्तेजक पदार्थों से बचें। अच्छे स्वास्थ्य के लिए खुली हवा में उचित मात्रा में व्यायाम की आवश्यकता होती है।


यदि किसी वजह से ओपन एयर नहीं मिल सकती, तो उसे किसी अन्य सीस्टमेटिक तरीके से व्यायाम जरूर करना चाहिए। आराम और ताजी हवा भी जरूरी है। कई लोगों को खुले आसमान के नीचे सोना, गर्मी और सर्दी दोनों मौसम में फायदेमंद लग सकता है। लेखक इस hindi audiobook में बताते है कि अच्छे स्वास्थ्य के लिए भरपूर नींद आमतौर पर जरूरी है। आप यह अच्छे से जानते है की अच्छे स्वास्थ्य के लिए ये आवश्यकताएं असामान्य नहीं हैं। इनको पाने के लिए किसी रॉकेट साइंस, चमत्कार या जादू की आवश्यकता नहीं है।


अच्छा स्वास्थ्य उतना ही स्वाभाविक है जितना कि खुशी के लिए एक स्पष्ट विवेक। इसलिए सच्ची सफलता के लिए गुड हेल्थ नितांत आवश्यक हैं। हमें स्वाभाविक रूप से जीने की जरूरत है क्योंकि भगवान ने हमें जीने के लिए बनाया है, और अधिक धन, अधिक भूमि, अधिक आसान और अधिक लोकप्रियता के लिए हमारी लगातार दौड़ के लिए नहीं। जिस व्यक्ति का आदर्श वाक्य "जियो और जीने दो" होता है, वह हमेशा खुश रहता है, और वह उतनी ही तेजी से सच्ची सफलता प्राप्त करता है। आप भी यह सुनिश्चित करें कि, क्या आप ऐसे लोगों के लिए या उनके साथ काम करते हैं जो इसी तरह विश्वास करते हैं?


The Business of 21st Century Full Audiobook >>


जो इम्प्लॉइअर या पार्टनर कहते है की भगवान ने उन्हें अपने बिजनस में सक्सेस होने से रोक रखा है, तो, उन्हें अपना बिजनस बदल लेना चाहिए। निश्चित रूप से यदि यह उस बिजनस के बारे में सच है जिस पर आप विचार कर रहे हैं, तो आपको इसमें प्रवेश नहीं करना चाहिए। काम करने की स्थिति, वर्किंग अवर्स, opportunities फॉर एक्सर्साइज़ और लिविंग सिचूऐशन, आदि सभी को तब मापा जाना चाहिए जब कोई अपने बिजनस पर विचार करे या किसी को अपना पार्टनर चुनना हो।


सभी ग्रुप्स के लोग जो अपने सही ग्रुप में काम नहीं रह रहे हैं, वे लगातार अपने जन्मसिद्ध अधिकारों को बेच रहे हैं। यदि आप ऐसी कन्डिशन या बिजनस में हैं जहाँ आप स्पष्ट विवेक और अच्छे स्वास्थ्य दोनों का आनंद नहीं ले सकते हैं, तो इससे तुरंत बाहर निकलें और अपने ग्रुप को चुनें व किसी और चीज़ में जाएँ। हो सकता है वहाँ आपको उतना पैसा नहीं मिलता होगा – पैसा ही सब कुछ नहीं है। इसके अलावा, अगर यह दूसरों के विवेक और स्वास्थ्य को खत्म करने का जरिया रहा है, तो सावधान रहें!


इसी तरह एक सहयोगी पत्नी का भी बहुत महत्व है। मैं न्यू इंग्लैंड की एक बड़ी निर्माण कंपनी के मुखिया को जानता हूं जिसने अपने होम टाउन के एक होनहार युवक को अपने यहाँ काम दिया। वह लड़के के माता-पिता को जानता था, और वे उसके लिए सबसे अच्छे स्टॉक के थे। वह खुद भी लड़के को अच्छी तरह जानता था, क्योंकि किसी समय वह लड़का उसकी संडे स्कूल की क्लास में था-वास्तव में, उसके बिजनस में कई विभाग प्रमुख भी संडे स्कूल और वाईएमसीए के समय के जानकार थे।


अपने उच्च चरित्र और क्षमता के कारण मैन्यफैक्चरर का वह लड़का पसंदीदा था। शुरू से ही लड़के ने अच्छा काम किया। उसने पहले कुछ वर्षों में तेजी से उन्नति की, और तेईस वर्ष की आयु में ही प्रति वर्ष $6,000 की सैलरी मिलने लगी थी, जो संभवतः उस शहर में प्राप्त होने वाले किसी भी व्यक्ति से अधिक थी जहां से वे आए थे।


Think and Grow Rich Hindi Audiobook >>


उसके ऑफिस में एक बहुत ही सुंदर स्टेनोग्राफर थी। जिसे युवक बहुत पसंद करने लगा था और वह लड़की बहु उसे पसंद करती थी। यह कहना अजीब है होगा कि, स्टेनोग्राफरों के ग्रुप में सबसे घरेलू लड़की आमतौर पर सबसे कुशल होती है, जबकि सबसे सुंदर आमतौर पर सबसे कम कुशल होती है। और यह मामला भी कोई अपवाद नहीं था। हालांकि, लड़की को यह जल्दी ही महसूस हो गया कि उस युवक के पास संभावनाएं हैं और वह उसके लिए एक अच्छा सिलेक्शन साबित होगा। वह लड़की उसे पाने में सफल रही।


उन्होंने एक साधारण शादी की और मामूली तरीके से हाउसकीपिंग शुरू कर दी। पहले तो वह उस चीज़ से संतुष्ट थी जो वह आसानी से वहन कर सकता था। हालाँकि, थोड़े समय में वह और अधिक की चाहत करने लगी थी। उसने हमेशा आकर्षक कपड़े पहने। वह बेहतरीन कपड़े पहनना चाहती थी-लेकिन वह, वह सब नहीं जानती थी जो उसे जानना आवश्यक था। उसके तो अपने ही अन्य हित थे।


इस प्रकार उसने अधिक से अधिक महंगे कपड़े खरीदे। फिर उसने घर के लिए महंगा फर्नीचर खरीदा। फिर जिस घर में वे रहते थे, वह इस फर्नीचर के साथ उसे शोभा नहीं देता था, और उसने अपने पति को जोर देकर कहा की अधिक फैशनेबल पड़ोस में एक बड़ा घर खरीद ले। जिससे उन्होंने जल्द ही अपनी पूरी सैलरी खर्च करनी पड़ी और वे कर्ज में डूब गए।


पहला "शो डाउन" तब हुआ जब बिजनस प्रमुख ने इस युवक सहित अपने चार विभाग प्रमुखों को अपना बिजनस बेचने का फैसला किया। इम्प्लॉइअर के इसे बड़े ऑफर के लिए, युवक के पास अवसर का लाभ उठाने के लिए पैसे नहीं थे। इसके अलावा, जब वह उधार लेने के लिए अपने बैंक गया, तो बैंक ने उसे सूचित किया कि उसके खाते में लोन की गारंटी नहीं है। इसके अलावा, बैंक अध्यक्ष जानता था कि उसके अभी बिल बकाया हैं और उसके पास पर्याप्त साधन नहीं है जिससे वह और लोन उठाया सकता है। बैंक अध्यक्ष, उसकी पत्नी और बेटियों ने अक्सर उस युवा जोड़े को नाश्ते की मेज पर बात करते सुना था।


The Intelligent Investor hindi audio book >>


यह कभी न भूलें कि बैंक अधिकारी और व्यवसायी जिनके साथ हम डील करते हैं, उनकी पत्नियाँ भी हैं और साथ ही हमारी पत्नियां भी अक्सर कमोबेश एक-दूसरे से ईर्ष्या करती हैं। यदि किसी के पास एक नया फर कोट या ऑटोमोबाइल है, तो दूसरे इसे थोड़ी देर में यह मां लेते है की यह उनके पास भी होना चाहिए। जब उन्हें लगता है कि उनका मालिक इसे वहन कर सकता है, तो वे आहें भरते हैं और इसका भरपूर लाभ उठाते हैं; परन्तु यदि उन्हें लगता है कि वह इसे वहन नहीं कर सकती, और यदि वे जानते हैं कि उनके पति को उनके पति से अधिक नहीं मिल रहा है, तो परेशानी है। वे तुरंत नए फर कोट के गर्व के मालिक के बारे में गपशप करते हैं और अन्य सभी को इस युवती के अपव्यय के बारे में विधिवत रूप से पता चल जाता है।


एक आदमी का श्रेय और सफलता अक्सर उसकी पत्नी की फिजूलखर्ची की आदत की वजह से बर्बाद हो सकती है। दूसरी ओर, इसका रिवर्स भी बहुत बार सच होता है। कई युवक अपनी सफलता का श्रेय अपनी किफायती पत्नी को देते हैं, और यह तथ्य कि बैंकर की पत्नी जानती है कि वह किफायती है, वह उसके लिए मददगार है। इसलिए, कई टाउन बैंकों के ऋण पारिवारिक गपशप और बैंकर की पत्नी और बच्चों द्वारा जानबूझकर या अनजाने में की गई टिप्पणियों से निर्धारित होते हैं।


महिलाओं को अक्सर डन या ब्रैडस्ट्रीट की तुलना में क्रेडिट निर्धारित करने के लिए कहीं अधिक सोचना पड़ता है। इसलिए, सहयोगियों का चयन करते समय, याद रखें कि पत्नी सबसे महत्वपूर्ण सहयोगी है। सुनिश्चित करें कि वह एक ऐसी लड़की हो जो सही हो - जिसके साथ आप अपने घुटनों पर बैठ सकते हैं और प्रार्थना कर सकते हैं।


Lok Vyavhar full hindi audiobook >>


हालाँकि, यह युवा पत्नी पैसे खर्च करने के बाद भी संतुष्ट नहीं हुई। वह जल्द ही अपने पति को अधिक कमाई न करने के लिए डांटने लगी। उसने उसकी मदद करने और प्रोत्साहित करने के बजाय उसे दबाने और दंडित करने की कोशिश की। वह नेक इरादे वाली थी। वह शायद अपने पति से प्यार करती थी, लेकिन वह निश्चित रूप से उसके लिए एक बड़ी बाधा थी। वह चाहती थी कि वह सफल हो, लेकिन वह खुद उसकी सफलता में सबसे बड़ी बाधा थी।


वह चाहती थी कि उसे पदोन्नत किया जाए, लेकिन वह ऐसी स्थितियाँ बना रही थी जिससे उसकी उन्नति रुक गई। इस महिला को अपवाद न समझें। हर मोहल्ले में ऐसे कई हैं। वे अलग-अलग तरीकों से काम करते हैं। सभी बेहतर घरों, कारों और कपड़ों के लिए महत्वाकांक्षी नहीं हैं। कुछ इसी तरह क्लब के काम, लॉज मीटिंग, या यहां तक कि राजनीति में भी असंतुलित हैं।


मेरे मन में एक महिला है जो अपने पति के सीनेटर बनने के लिए बेहद महत्वाकांक्षी है। यदि वह सभाओं में भाग लेने और क्लबों में बोलने के बारे में यात्रा करने के बजाय केवल घर पर रहती और उससे प्यार करती, तो शायद वह चुना जाता। वह अद्भुत शक्ति और क्षमता का व्यक्ति है, लेकिन स्वभाव से प्रोत्साहन पर बहुत निर्भर है। अगर वह कभी सीनेटर बने, तो यह उनकी पत्नी के बिना ही संभव होगा, और फिर भी वह ईमानदारी से मानती हैं कि वह यह सब अपने पति के भविष्य के लिए कर रही हैं। बेचारा गुमराह आदमी! उसके पास पिछले अध्याय में उल्लिखित छह गुणों में से कुछ हैं, लेकिन उसके पास धार्मिक आधार और सच्ची सफलता का उचित दृष्टिकोण नहीं है।


Zero to One Full Hindi Audio Book >>


सौभाग्य से, अधिकांश महिलाएं वास्तविक सहायक होती हैं। अधिकांश महिलाएं अपने पति को सफल बना रही हैं। एक पत्नी एक आदमी को बना या बिगाड़ सकती है। अधिकांश सफल पुरुष अपनी सफलता का श्रेय अपनी पत्नियों को देते हैं। आंकड़े निश्चित रूप से दिखाएंगे कि एक आदमी की पत्नी उसकी सफलता का सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर है, और अगला फैक्टर उसका एक अच्छा परिवार है।


इसके अलावा, आंकड़े शायद यह दिखाएंगे कि जो महिलाएं अपने पतियों के लिए सबसे अधिक मददगार रही हैं, वे, वे हैं जो घर पर रहकर वास्तविक पत्नियां बन चुकी हैं। अच्छे बच्चों के परिवार से बढ़कर कोई भी व्यक्ति सफलता के लिए प्रेरित नहीं होता है। किसी पुरुष की वास्तविक सफलता को सांख्यिकीय रूप से आंकना मुश्किल हो सकता है, लेकिन महिलाओं के साथ यह इतना मुश्किल नहीं है।


बेशक, हर नियम के अपवाद हैं, लेकिन एक नियम के रूप में, एक महिला की सफलता को अक्सर अच्छे बॉय्ज़ और गर्ल्स की संख्या से मापा जाता है, जिन्हें मैन्हुड और वुमन्हुड से जाना जाता है।


धन्यवाद, मिलते है इस hindi audiobook के अगले चैप्टर के साथ, हिन्दी औडियो बुक डॉट कॉम, आपका दिन शुभ हो!




57 views0 comments

Recent Posts

See All