Security Analysis for the Lay Investor : General Approach



प्रश्न : "क्या आप, कृपया मुझे बताएंगे, कि यहाँ से जाने के लिए मुझे कौन सा रास्ता चुनना चाहिए?"


उत्तर : "यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कहाँ जाना चाहते हैं।“


-ल्विस कैरोल - एलिस एडवेंचर्स इन वंडरलैंड


भविष्य के लिए मूल्य लगाना


वे कौन से कारक है जो निर्धारित करते हैं कि आपको कोई भी स्टॉक खरीदने के लिए कितना तैयार होना चाहिए? जबकि आप देख रहे होते है कि एक कंपनी 10 गुना कमाई कर रही होती है जबकि उसी समय दूसरी 20 गुना कमाई के लायक होती है? और आप तर्कसंगत रूप से यह कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप एक स्पष्ट, व उज्जवल भविष्य के लिए अधिक भुगतान नहीं कर रहे हैं, जो एक बुरा सपना भी हो सकता है?


इन सब प्रश्नों को देखते हुए ग्राहम को लगता है कि ये वो पाँच तत्व है जो इस परिस्थिति में निर्णायक हैं। उन्होंने इन्हें इस रूप में संक्षेप में प्रस्तुत किया है:


1. कंपनी की "सामान्य दीर्घकालिक संभावनाएं"

2. इसके प्रबंधन की गुणवत्ता

3. इसकी वित्तीय ताकत और पूंजी संरचना

4. इसका लाभांश रिकॉर्ड

5. और इसकी वर्तमान लाभांश दर।


आइए आज के बाजार के अनुसार इन कारकों परखें।


दीर्घकालिक संभावनाएं – सबसे पहले बुद्धिमान निवेशक को उस कंपनी कि कम से कम पांच साल की वार्षिक रिपोर्ट फॉर्म 10-के कंपनी की वेबसाइट से या EDGAR डेटाबेस से डाउनलोड करनी चाहिए। यह रिपोर्ट आपके दो ओवरराइडिंग प्रश्नों के उत्तर देने में आपकी सहायता करती है जो ये है :


1. यह कंपनी क्या विकसित करती है?

2. मुनाफा कहां से आया?


अब इन प्रश्नों को हल करने में आने वाली समस्याओं को देखें:



कंपनी एक "serial अधिग्रहणकर्ता है।" एक वर्ष में दो या तीन से अधिक अधिग्रहणों का औसत potential trouble का संकेत है। आखिरकार, अगर कंपनी खुद ही अपने स्वयं के निवेश की तुलना में अन्य व्यवसायों के स्टॉक को खरीदती है, तो आपको कंपनी कि कहीं और भी जांच करनी चाहिए? और आपको कंपनी के एक अधिग्रहणकर्ता के रूप में कंपनी के ट्रैक रिकॉर्ड की जांच करनी चाहिए। आपको कॉर्पोरेट अपच कि बीमारी को देखने के लिए बाहर भी देखना चाहिए, जैसे कुछ कंपनियां है जिन्होंने बड़े अधिग्रहण कर लिए थे लेकिन अब उन्हें कॉर्पोरेट अपच हो रही है, जिसके कारण वे अब अपने पुराने अधिग्रहणों को वापिस छोड़ने के लिए विवश है. जैसे ल्यूसेंट, मैटल, क्वेकर ओट्स, और टायको इंटरनेशनल उन कंपनियों में से हैं, जिन्हें इस बीमारी से होने वाले नुकसान पर अधिग्रहण से बचना पड़ा है। अन्य फर्में पुरानी राइट-ऑफ या अकाउंटिंग चार्ज लेती हैं, जिससे साबित होता है कि वे अपने पिछले अधिग्रहणों के लिए ओवरपेड हैं। भविष्य के सौदे के लिए यह एक अपशगुन है।


कंपनी एक OPM addict है, ये कर्ज ले रही है या अन्य लोगों के पैसे के बोटलोड यानि पर्याप्त राशि को बढ़ाने के लिए स्टॉक बेच रही है। वार्षिक रिपोर्ट में इस कैश फ्लो को OPM के इन fat infusions को "cash from financing activities" कहा जाता है। आप एक बीमार कंपनी को विकसित होते हुए भी देख सकते हैं, भले ही उसके underlying businesses पर्याप्त Cash पैदा नहीं कर रहे हों - जैसा कि ग्लोबल क्रॉसिंग और वर्ल्डकॉम ने बहुत पहले यह लोगों को नहीं दिखाया था।


कंपनी एक Johnny-One-Note है, जो अपने अधिकांश राजस्व के लिए एक ग्राहक पर निर्भर है। अक्टूबर 1999 में, फाइबर-ऑप्टिक्स निर्माता साइकैमोर नेटवर्क्स, इंक। ने पहली बार जनता को स्टॉक बेचा। प्रॉस्पेक्टस से पता चला कि एक ग्राहक, विलियम्स कम्युनिकेशंस, ने साइकैमोर के total revenues जोकि 11 करोड़ डॉलर था उसमें पुरे 11 मिलियन डॉलर का निवेश किया था। व्यापारियों ने 15 अरब डॉलर के साइकैमोर के शेयरों की निष्ठा से कीमत लगाई थी. दुर्भाग्य से, विलियम्स दो साल बाद ही दिवालिया हो गए। हालाँकि, साइकैमोर ने अन्य ग्राहकों को को भी बाद में अपने स्टॉक बेचे लेकिन साल 2000 और 2002 के बीच इसका स्टॉक 97% तक गिर गया।


जब भी आप किसी कंपनी के विकास और लाभ के स्रोतों का अध्ययन करते हैं, तो सकारात्मक के साथ-साथ नकारात्मक पर भी नज़र रखें। ये कुछ अच्छे संकेतों में इस प्रकार हो सकते है:


कंपनी के पास व्यापक बड़ी "खाई हो" या फिर बड़ा प्रतिस्पर्धी लाभ होना चाहिए। वरना एक उस महल कि तरह जिसके चरों और कम चौड़ी खाई होने के कारण उसे आसानी से कब्जे में लिया जा सकता है उसी तरह ही कुछ कंपनियों को उनकी उस छोटी खाई कि वजह से ही आसानी से उनके प्रतिद्वंद्वियों द्वारा मार डाला जा सकता है, जबकि वे अन्य लगभग अभेद्य होती है जिनकी यह खाई काफी चौड़ी होती हैं। कुछ एसी ताकतें होती है जो कंपनी की उस खाई को चौड़ा कर सकती हैं: जैसे कि एक मजबूत ब्रांड पहचान; monopoly या नजदीकी monopoly; economies of scale, सस्ते में बड़ी मात्रा में माल या सेवाओं की आपूर्ति करने की क्षमता; एक unique intangible asset; या एक resistance to substitution यानि प्रतिस्थापन के लिए प्रतिरोध आदि ही वे असली ताकतें है जो कम्पनी को एक अभेद्ध किले के रूप में अजेय बनाती है।


कंपनी मैराथनर है, जोगिंग नहीं है – आप आय विवरणों पर वापस जाकर देख सकते हैं कि रेवेन्यु और शुद्ध आय पिछले 10 वर्षों में सुचारू रूप से और तेजी से बढ़ें है या नहीं। फाइनेंशियल एनालिस्ट जर्नल के एक हालिया लेख ने पुष्टि की कि अन्य अध्ययनों से पता चला है कि सबसे तेजी से बढ़ने वाली कंपनियां ओवरहीट और फ्लेम आउट हो जाती हैं। यदि कंपनी कि कमाई टैक्स के बाद 10% की दीर्घकालिक दर से बढ़ रही है, तो यह टिकाऊ हो सकती है। लेकिन 15% growth hurdle यह है कि कई कंपनियों ने खुद के लिए निर्धारित भ्रम पाल रखे है। इसके अलावा एक उच्च दर return या एक, दो साल में विकास का अचानक फट पड़ना यह संकेत देता है कि आगे सब कुछ फीका पड़ने कि सम्भावना निश्चित है, ठीक उसी तरह जैसे एक अनुभवहीन मैराथनर जो इस दौड़ को एक 100 मीटर दौड़ कि तरह पूरी दौड़ दौड़ने की कोशिश करता है।


कंपनी बोती है और फिर काटती है - एक कंपनी को नए व्यवसाय को विकसित करने के लिए इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसके उत्पाद कितने अच्छे हैं या इसका ब्रांड कितना शक्तिशाली हैं, इसे कुछ पैसे अपने अनुसंधान और विकास पर खर्च करने ही होते है, हालांकि अनुसंधान और विकास खर्च आज विकास का स्रोत नहीं है, लेकिन ये कल हो सकते है - खासकर अगर एक फर्म के पास नए विचारों और उपकरणों के साथ अपने व्यवसायों को फिर से जीवंत करने का एक सिद्ध रिकॉर्ड होना चाहिए। अनुसंधान और विकास का औसत बजट उद्योगों और कंपनियों में भिन्न-भिन्न होता है। जैसे साल 2002 में प्रॉक्टर एंड गैंबल ने आरएंडडी पर अपनी शुद्ध बिक्री का लगभग 4% खर्च किया था, जबकि 3M ने 6.5% और जॉनसन एंड जॉनसन ने 10.9% खर्च किया था। लंबे समय में, एक कंपनी जो आरएंडडी पर कुछ भी खर्च नहीं करती है वह कम से कम उतना ही कमजोर है जितना कि बहुत अधिक खर्च करता है।


मैनेजमेंट की गुणवत्ता और आचरण - एक कंपनी के executives को यह बताना चाहिए कि वे इनके विकास के लिए क्या करेंगे और फिर उन्हें वो करना चाहिए जो उन्होंने करने के लिए कहा हो। इसकी पुष्टि के लिए पिछली वार्षिक रिपोर्टों को पढ़ें कि प्रबंधकों ने किस पूर्वानुमान का अनुमान लगाया था और क्या उन्होंने उन्हें पूरा किया या उससे कम किया। प्रबंधकों को "अर्थव्यवस्था," "अनिश्चितता," या "कमजोर मांग" जैसे सभी उद्देश्य वाले अनिश्चित कारणों को दोषी ठहराने के बजाय अपनी विफलताओं को स्वीकार करना चाहिए और उनकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए. अब यह भी जांचें कि क्या अध्यक्ष के सालान पत्र का स्वर और पदार्थ वॉल स्ट्रीट पर नवीनतम style के साथ ले में है या स्थिर है या उतार-चढ़ाव वाला है।


ये प्रश्न यह निर्धारित करने में भी आपकी सहायता कर सकते हैं कि क्या कंपनी चलाने वाले लोग कंपनी के मालिक के हित में कार्य करेंगे:


• क्या वे नंबर 1 की तलाश कर रहे हैं?


एक फर्म जो अपने सीईओ को एक वर्ष में 100 मिलियन डॉलर का भुगतान करती है उसके पास इसके बहुत अच्छे कारण होते है। अगर इसका कोई ठोस कारण न हो तो इस तरह के अस्पष्ट मोटे पैसे देने का मतलब है कि यह फर्म प्रबंधकों के लिए, प्रबंधकों द्वारा संचालित किया जाता है।


यदि कोई कंपनी अपने स्टॉक विकल्प को अंदरूनी सूत्रों के लिए reprice करती है तो इससे दूर रहें. इस स्विचरूप में एक कंपनी कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए मौजूदा स्टॉक विकल्प को रद्द कर सकती है और फिर उन्हें लाभप्रद कीमतों पर नए लोगों के साथ बदल देती है। यदि उनके स्टॉक मूल्य कभी शून्य पर नहीं जाते है, व उनका संभावित लाभ हमेशा अनंत हो तो ये विकल्प कॉर्पोरेट परिसंपत्तियों के अच्छे संचालन को कैसे प्रोत्साहित कर सकते हैं? कोई भी स्थापित कंपनी जो विकल्पों को रिप्रजेंट करती है - जैसा कि दर्जनों उच्च-तकनीकी फर्मों के पास होता है – जो कि आपको डाउन कर सकता है, व कोई भी निवेशक जो एक ऐसी कंपनी में स्टॉक खरीदता है उनकी हालत बहुत खराब हो स