Life Force by Tony Robbins

अपने जीवन या किसी ऐसे व्यक्ति के जीवन को रूपांतरित करें जिसे आप प्यार करते हैं—अपनी एनर्जी और स्ट्रेंथ को मैक्समाइज़ करने, बीमारियों से बचने, और अपनी हेल्थ को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए हेल्थ टेक्नॉलजी में नवीनतम सफलताओं पर यह एक बेहतरीन बुक है जिसे टोनी रॉबिंस ने लिखा है।



आप सोचिए की यदि आपके पास ऐसे वैज्ञानिक समाधान उपलब्ध हों जिससे आपका शरीर बीमार ही न पड़े, जानलेवा बीमारितों से छुटकारा दिला सके, या उम्र बढ़ने के प्रभावों को महसूस करने के आपके गहरे डर को मिटा सकें? तक आप कैसा महसूस करेंगे, यदि आपके पास चोटी के कलाकारों और दुनिया के महानतम एथलीटों द्वारा उपयोग किए जाने वाले अत्याधुनिक टूल और तकनीक हो तब आप कैसा महसूस करेंगे?


हमारे स्वास्थ्य के बारे में भय और अनिश्चितता से भरी इस दुनिया में, यह जानना मुश्किल है कि उस ऐक्शनबल अड्वाइस कहां से मिलेगी जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं। आज, regenerative medicine के क्षेत्र में अग्रणी वैज्ञानिक और डॉक्टर diagnostic tools और safe और effective therapies, डिवेलप करने में लगे हुए है ताकि आपको बीमारियों के डर से मुक्त कर सकें।


इस पुस्तक में, दुनिया के life and business strategist टोनी रॉबिंस, जिन्होंने पचास मिलियन से अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया है, आपके लिए दुनिया के 100 से ज्यादा top medical minds, latest research, inspiring comeback stories और सटीक medicine में amazing advancements के बारे में बताते हैं। जिसे आप अपने जीवन की length and quality बढ़ाने में मदद के लिए आज ही लागू कर सकते हैं।


Get This Book


यह पुस्तक रॉबिंस के स्वयं के life-changing journey का परिणाम है। यह बताए जाने के बाद कि उनकी स्वास्थ्य चुनौतियां अपरिवर्तनीय थीं, उन्होंने पहली बार अनुभव किया कि कैसे नई regenerative technology ने न केवल उन्हें ठीक करने में मदद की बल्कि उन्हें पहले से कहीं ज्यादा मजबूत भी बनाया है।


लाइफ फोर्स आपको दिखाएगी कि कैसे आप हर दिन अधिक एनर्जी के साथ जाग सकते हैं, एक बेहतरीन बुलेटप्रूफ immune system, और अपनी biological clock को फिर से ऐक्टवैट करने में मदद करने का तरीका जान सकते है। यह हम सभी के लिए लिखी गई बुक है, फिर चाहे आप चोटी के peak performance athletes हों या फिर एक औसत व्यक्ति, जो अपनी ऊर्जा और ताकत बढ़ाना चाहते हैं, और अपने उपचार की तलाश में हैं उनके लिए भी यह एक वरदान साबित होने वाली पुस्तक है। Life Force आपको ऐसे उत्तर देगी जो आपके जीवन को बदल सकते हैं, और यहां तक कि उसे बचा भी सकते हैं, यह चाहे फिर आपके लिए हो या उस किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसे आप प्यार करते हैं।



लेखक के बारे में


टोनी रॉबिंस एक उद्यमी, #1 न्यूयॉर्क टाइम्स के बेस्टसेलिंग लेखक और परोपकारी व्यक्ति हैं, जिन्हें एक्सेंचर द्वारा दुनिया के शीर्ष पचास व्यावसायिक बुद्धिजीवियों में से एक के रूप में सम्मानित किया गया है। रॉबिंस एक नेता हैं जिन्हें नेताओं द्वारा बुलाया जाता है: उन्होंने दुनिया के कुछ महान एथलीटों, मनोरंजनकर्ताओं, फॉर्च्यून 500 के सीईओ और चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों से सलाह ली और उन्हें कोचिंग दी। रॉबिंस 100+ निजी तौर पर आयोजित व्यवसायों में एक संस्थापक, भागीदार, या शुरुआती निवेशक है, जिसकी संयुक्त बिक्री सालाना $7 बिलियन से अधिक है। फीडिंग अमेरिका के साथ अपने परोपकार और साझेदारी के माध्यम से, उन्होंने 800 मिलियन से अधिक भोजन उपलब्ध कराए हैं और 2025 तक 1 बिलियन भोजन उपलब्ध कराने की राह पर हैं। वह फ्लोरिडा के पाम बीच में रहते हैं।


Read Life Force Book on Kindle


यह बुक एक भारतीय विचार के इर्द गिर्द लिखी गए है जो है - "एक स्वस्थ व्यक्ति की हजारों इच्छाएं होती हैं, लेकिन एक बीमार व्यक्ति की एक ही होती है।"


इस बुक के बारे में लेखक कहते है की वे वेटिकन की शानदार भव्यता और सुंदरता से चकित है, वे इस समय वेटिकन के विशाल गुंबद के पीछे बने सेंट पीटर स्क्वायर की खुली हवा में घूम रहे है। जैसे ही वे वेटिकन हॉल में सफेद संगमरमर की सीढ़ियाँ चढ़ते है, तो वे देखते है की सभी लोग अचानक मुड़ गए। लेखक भी भीड़ की निगाहों का अनुसरण करे है, और उस और देखते है कि एक वृद्ध व्यक्ति एक मुस्कान लिए उनकी ओर चला आ रहा है। जब वह व्यक्ति हाथ मिलाने के लिए लेखक तक पहुँचते हैं तो वे सीधे उसकी आँखों में देखते है। . . और उन्हें तब एहसास होता है कि यह तो पोप है।

आज लेखक ने दुनिया के कुछ greatest scientific minds से landmark meeting के लिए वेटिकन आए है। वे पोप फ्रांसिस द्वारा आयोजित एक conference को संबोधित करने के लिए यहां आए हैं। उन्हें regenerative medicine पर पायनियर्स से खचा-खच भरे कान्फ्रन्स हॉल में फाइनल स्पीच देने के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसे लेखक मानते है की यह उनके जीवन के महान सम्मानों में से एक है।

वे यहाँ पर तीन दिनों तक मंत्रमुग्ध करने वाले, शानदार वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और healthcare entrepreneurs को सुनते हैं। जहां पर वे घातक बीमारियों और विनाशकारी medical disorders से निपटने के लिए विकसित किए जा रहे solutions के बारे में urgency और passion के साथ बोलते हैं। वे सेलुलर और molecular levels पर शरीर को ठीक करने के लिए नए तरीकों के बारे में जानकारी शेयर करते हैं- वे उस चिकित्सा के बारे में बात करते है जो muscles, जोड़ों और रक्त वाहिकाओं को मजबूत कर सकती है, damaged अंगों को पुनर्जीवित कर सकती है, उन बीमारियों पर विजय प्राप्त कर सकती है जो पहले लाइलाज लगती थीं। वे हमें stem cell treatments, gene therapy, और दूसरे life-changing innovations में गहरे गोता लगाने पर ले जाते हैं, जो शरीर की repair और खुद को renew करने की प्राकृतिक क्षमता को बढ़ाते हैं। जैसा कि आप बुक में आगे पढ़ेंगे की, इनमें से कई प्रग्रेस इतनी आश्चर्यजनक हैं कि एक गैर-धार्मिक व्यक्ति भी उन्हें चमत्कार के रूप में describe करेगा!


Listen Adhik Prapt Karne Ki Prakriya Full Book

लेखक आगे कहते है की इन unbelievable breakthroughs के impact को देखने के लिए रोम में वे फ्रन्ट सीट पर बैठे थे। जहां पर वे एक 15 वर्षीय बच्चे से मिले, जिसे ल्यूकेमिया था - और अब, दस साल से ज्यादा समय बाद भी वह पूर्ण स्वस्थ्य था। उन्होंने वहाँ गंभीर कैंसर रोगियों से सुना, जिन्हें केमो और radiation थरेपी जैसे नाकाम इलाज करने के बाद मरने के लिए घर भेज दिया गया था। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी, उन्होंने कुछ अद्भुत नए उपचारों की कोशिश की जिनके बारे में आप बुक में पढ़ेंगे की कैसे वे दो साल बाद न केवल जीवित रहे, बल्कि संपन्न भी हो रहे थे!

रॉबिन ने यह पुस्तक आपको यह समझने में मदद करने के लिए लिखी है ताकि आप diagnostics, जैव biotechnology और regenerative चिकित्सा में इस क्रांति का पूरा लाभ उठाने के लिए सशक्त बन सकें। जिसने उनके जीवन को पहले से ही उन तरीकों से बदल दिया है जिनकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी। यह हमारी ताकत और जीवन शक्ति का विस्तार करने का वादा करता है की संभावित रूप से हम कितने समय तक जीवित रह सकते हैं। लेखक चाहते है कि आप इन वैज्ञानिक खोजों से सबसे पहले लाभ उठायें, क्योंकि वे अपने स्वयं के अनुभव से जानते है कि आपके जीवन की गुणवत्ता में कितने नाटकीय रूप से सुधार हो सकते हैं। वास्तव में, आगे जो प्रैक्टिकल नालिज वे आपके साथ शेयर करने जा रहे है, वह वास्तव में आपके जीवन को बचा सकता है - या फिर किसी ऐसे व्यक्ति का जीवन बचा सकता है जिसे आप प्यार करते हैं।


इस पुस्तक का उद्देश्य आपको आश्चर्यजनक उपकरणों और उपचारों के बारे में नवीनतम जानकारी देना है जो अभी उपलब्ध हैं, और अन्य जिन्हें जल्द ही यू.एस. खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) द्वारा approved किया जा सकता है। ये innovations आपके हाथ से निकलने से पहले कई सबसे आम स्वास्थ्य चुनौतियों को हल करने में सक्षम होंगे। कल्पना कीजिए कि ज़ीरो लेवल पर कैंसर का पता लगाने और उसका इलाज शुरू करने का कारण बने ताकि इलाज शुरू किया जा सके। क्या आपके genetic risk factors को समझना अमूल्य नहीं होगा जो उन जोखिमों को वास्तविकता बनने से कम कर सके या उन्हें पहले ही रोक सकते हैं? heart disease और diabetes जैसी degenerative problems से बचने के लिए अपनी जीवन शैली को बदलने में सक्षम होने की शक्ति के बारे में सोचें। क्या आप जानते हैं कि एक कंपनी तीसरे चरण में एक उपकरण के साथ परीक्षण कर रही है जो एक teenager की तरह fresh cartilage को फिर से regrow करने में आपकी मदद करने के लिए arthritis यानि गठिया को ठीक कर सकता है? इनमें से कई तो इतने आश्चर्यजनक हैं कि ऐसा लगता है कि वे बीस या तीस वर्षों में जाकर डिवेलप होंगे। वास्तव में, इनमें से बहुत से तो आज भी उपलब्ध हैं!


Why Read Fake book written by Robert Kiyosaki


बायोटेक और healthcare revolution की गति दो कारणों तेज हो रही है। पहला है पूंजी का भारी प्रवाह यानि पूंजी का massive inflow, जहां COVID-19 ने कई लोगों के लिए तबाही मचाई, वहीं इसने निवेश के लिए बड़े पैमाने पर प्रोत्साहन के रूप में भी काम किया। महामारी के बावजूद, 2020 में अधिक venture capital का इन्वेस्ट किया गया था - जिसमें अकेले हेल्थकेयर स्टार्टअप्स में रिकॉर्ड 80 बिलियन डॉलर का इनवेस्टमेंट है जो इतिहास में किसी भी समय की तुलना में अधिक था। जो की मार्केट में रिसर्च और बायोटेक innovations में पहले से कहीं ज्यादा पूंजी हैं।


दूसरा कारण यह है कि biology अब एक information technology है, जिसका अर्थ है कि medicine का फील्ड पहले से ज्यादा बेहतर और सस्ता होता जा रहा है।

Thanks to technology, जिसके कारण medical treatment के हर फेज की फिर से कल्पना की जा रही है। जैसे फ्रंट एंड पर, सेंसर और नेटवर्क मेडिकल डायग्नोस्टिक्स को बढ़ा रहे हैं, मिडल में, रोबोटिक्स और 3 डी प्रिंटिंग traditional medical procedures को फिर से शुरू कर रहे हैं, और अंतिम छोर पर, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), जीनोमिक्स, सेल्युलर मेडिसिन, जीन थैरेपी और जीन एडिटिंग दवाओं से बदलाव ला रहे हैं।

कुल मिलाकर, बायोटेक आज बीमार की देखभाल को genuine healthcare में बदल रहा है। यह medicine को one-size-fits-all system से बदल रहा है, हम सभी एक पूरी तरह से नए मॉडल के साथ बड़े हुए हैं: जैसे future-looking, proactive, personalized, और precision medicine यानि सटीक दवा।

technology में इस डेवलपमेंट से न केवल स्वास्थ्य सेवा को ऊपर से नीचे तक बदला जा रहा है, बल्कि लागत कम हो रही है। इस बारे में लेखक कहते है की उदाहरण के लिए: एक बार हम भूल जाते हैं कि सेलफोन की कीमत कितनी थी। उनके पास वास्तव में 1980 के दशक में पहला commercial model था, एक मोटोरोला फोन जिसकी कीमत $3,995 थी जो आज के 10,000 डॉलर से भी अधिक के बराबर थी। यह 1 फुट से इससे अधिक लंबा था और इसका वजन लगभग दो पाउंड था! इसकी बैटरी छह घंटे तक चार्ज होती थी, और इसने केवल तीस मिनट का टॉकटाइम मिलता था। आज आप इस तरह की अधिकांश सेल सर्विस मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं- और इसमें उस कंप्यूटर की तुलना में सौ गुना अधिक कम्प्यूटेशनल की पावर है जो अपोलो 11 अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा पर ले गया था।

अब आप इस बारे में सोचें की आपका कंप्यूटर माइक्रोचिप्स पर चलता है- जिन्हें मशीन का दिमाग कहते हैं। पहले माइक्रोचिप में 4,000 होते ट्रांजिस्टर थे जिनकी कीमत एक डॉलर थी। और आज के अत्याधुनिक माइक्रोचिप्स में छह ट्रिलियन से भी अधिक ट्रांजिस्टर होते हैं जिनकी कीमत एक पैसे के एक छोटे से अंश में होती है। वे 6,500 गुना तेज और 4.2 मिलियन गुना सस्ते हैं!

इसी तरह इनफार्मेशन, एजुकेशन और एनर्टैन्मन्ट तक हमारी पहुंच में भी exponentially विस्तार हुआ है। आज YouTube पर 82 सालों तक लगातार देखने जितना लंबा नया वीडियो रोजाना अपलोड किया जाता है, जिसमें दुनिया के लगभग हर विश्वविद्यालय के संपूर्ण पाठ्यक्रम शामिल हैं।


Why Read Thinking Fast and Slow Book?

आप सोच रहे होंगे की ये सभी ट्रेंड्स हेल्थकेर से कैसे संबंधित हैं? ठीक है, आइए इस पर विचार करें: आप जानते है की पच्चीस साल पहले, एक पूर्ण मानव जीनोम को कम्प्लीट करने में एक दशक से अधिक समय लगा और इसमें $2.7 बिलियन डॉलर का खर्च आया, जोकि एक व्यक्ति के growth और development के लिए genetic instructions का पूरा सेट था। आज यह $600 डॉलर से कम में किया जा रहा है, वो भी रातोंरात।

अब हमारे पास सिकल सेल एनीमिया और जन्मजात अंधेपन के कुछ रूपों को ठीक करने के लिए एक जीनोम को दोबारा से "लिखने" की तकनीक है। एक बार damage होने पर स्टेम सेल, healthy lungs को regrow कर सकते हैं। और “living” medicines के द्वारा हम उन्नत टी सेल या नैच्रल किलर यानि (एनके) सेल्स का उपयोग करके, हमारे immune system को सुपरचार्ज कर सकते हैं। फार्मास्युटिकल-क्वालिटी ओवर-द-काउंटर सप्लीमेंट्स आज मौजूद हैं जो जीवन की highest possible quality तक हमारी ऊर्जा और उत्साह को रेस्टोर कर सकते है या उन्हें एन्हैन्स यानि बढ़ा सकते हैं।

दर्द से सत्ता तक


"मुझे मेरी सफलताओं से नहीं बल्कि इस बात से आंकना कि मैं कितनी बार गिरा और फिर से उठ खड़ा हुआ।"
-नेल्सन मंडेला

लेखक अपने अतीत के बारे में बताते हुए कहते है की वह भी आपकी ही तरह जिस मुकाम पर आज है, वहां अपने कई फैसलों की वजह से है। जिनमें से कुछ कुछ सचेतन रूप से जानबूझकर लिए गए थे। वे आगे कहते है की जब वे पीछे मुड़कर देखते है, तो निस्संदेह उस समय के निर्णयों में उनका विश्वास अनुग्रह के तत्व पर और गहरा हो जाता है। क्योंकि उस समय जब उन्हें सही उत्तर के लिए निर्देशित किया गया था तब चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों ने उनके मूल विश्वासों को नया रूप दिया और उन्हें एक ऐसे अवसर का लाभ उठाने के लिए तैयार किया, जिसने सब कुछ बदल दिया।


वे आगे लिखते है की उन्हें यकीन है कि आपने अपने जीवन में ऐसे क्षणों का अनुभव किया होगा। यह वे उन क्षणों के बारे में इशारा कर रहे है जहां कुछ भयानक हुआ, कुछ इतना दर्दनाक कि आप या कोई ऐसा व्यक्ति जिसकी आप परवाह करते हैं फिर कभी इससे नहीं गुजरना चाहेंगे। लेकिन बाद में, आपने महसूस किया कि चुनौतीपूर्ण समय ने आपको जीवन में विकसित होने का अवसर दिया था। इसने आपकी अधिक देखभाल की, एक अलग लेवल की ड्राइव का निर्माण किया जिसने आपको अपने जीवन की गुणवत्ता या उन लोगों के जीवन को बेहतर बनाने में मदद की जिन्हें आप प्यार करते हैं। रॉबिन कहते हिय की इनमें से कई दर्दनाक अनुभवों ने ही उन्हे यह किताब लिखने के लिए तैयार किया। सबसे बुरे और सबसे कठिन समय के योग ने उन्हें वह अंतर्दृष्टि दी जो वे आज आपके साथ शेयर कर रहे है- यह अंतर्दृष्टि जो आपके स्वास्थ्य, खुशी और जीवन शक्ति को बढ़ा सकती है। और वही जीवन को वास्तव में जीने लायक बना सकते है।

वे अपनी कहानी बताते हुए लिखते है की यह सब एक कठिन वातावरण में बड़े होने के उपहार के साथ शुरू हुआ। उनके परिवार में उनके लिए ढेर सारा प्यार था, लेकिन उनकी परवरिश हिंसा, अराजकता, असुरक्षा और भय से भरी हुई थी। उनकी माँ कई मायनों में अद्भुत थीं, लेकिन वह जीवनभर शराब और दवाओं के व्यसनों से जूझती रहीं। कई बार तो वे खाना या कपड़े खरीदने के लिए भी तरस जाते थे। ऐसे समय में वे जवाब के लिए बेताब थे, वे कुछ भी सीखने के लिए बेताब थे जो उनकी पीड़ा को कम कर सके।

जहां तक उन्हें याद है उन्हें दूसरों को पीड़ित होते देखना कभी पसंद नहीं था। यही कारण है कि उन्होंने अपने जीवन के साढ़े चार दशक से अधिक समय लाखों लोगों को सबसे प्रभावी रणनीतियों को उजागर करने में मदद करने में बिताया है, जहां से वे वास्तव में होना चाहते हैं। जहां वे अपने सपनों को साकार करने के लिए व और ज्यादा अर्थपूर्ण और पूर्ति का जीवन जीने के लिए बेताब है। वे लोगों को दर्द से सत्ता तक खुद को ऊपर उठाने में मदद करने के लिए वास्तव में जुनूनी है। लेकिन जब वे इसकी शुरुआत कर रहे थे, तब उनके पा सफलता या उपलब्धि सिखाने के लिए एक भी रोल मॉडल उपलब्ध नहीं था। ऐसे में वे क्या करते? वे ऐसे में अंतर्दृष्टि और प्रेरणा के लिए कहां जा सकते थे?

उस समय उन्होंने बुक्स की ओर रुख किया- जो उनका एक महान पलायन साबित हुआ। उन्होंने पाया कि वे राल्फ वाल्डो इमर्सन के निबंधों को पढ़कर दर्शनशास्त्र की दुनिया में प्रवेश कर सके। वे विक्टर फ्रैंकल द्वारा मैन्स सर्च फॉर मीनिंग पढ़कर मनोविज्ञान की दुनिया में प्रवेश कर पाए। इसलिए उन्होंने स्पीड-रीडिंग कोर्स किया और खुद के लिए एक दिन में एक किताब पढ़ने का लक्ष्य रखा। जैसा कि आप सोच रहे होंगे की यह थोड़ा कठिन काम है! लेकिन उन्हे ज्ञान की इतनी भूख थी कि उन्होंने सात साल में 700 से ज्यादा किताबें पढ़ डाली। वे सब कुछ और कुछ भी सीखने के लिए एक अतृप्त खोज में इतनी किताबें पढ़ पाए! हाई स्कूल में उन्हें मिस्टर सॉल्यूशन के नाम से जाना जाता था। यदि किसी के पास कोई प्रश्न था, तो उनके पास इसका उत्तर था।

जब वे सत्रह साल के हुए तो एक चौकीदार के रूप में काम करके खुद का भरण-पोषण किया, तब उन्हें अपनी कृपा का पहला क्षण मिला। वे इस दौरान जिम रोहन से मिले जो एक प्रसिद्ध पर्सनल डेवलपमेंट स्पीकर और बिजनस गाइड थे, जिम वह व्यक्ति थे जिसने उन्हें यह देखने में मदद की कि चीजों को बदलने के लिए, उन्हें बदलना होगा। उन्हें अगर अपने जीवन को बेहतर बनाना है तो उन्हें बेहतर बनना होगा। अपने बाइल हुए कल पर विलाप करने से उनका भविष्य उज्जवल नहीं होने वाला है। उनकी वर्तमान तनावपूर्ण परिस्थितियों के बारे में शिकायत करने से कोई मदद नहीं मिलने वाली है। वे न तो यह उम्मीद कर रहे थे कि उनकी किस्मत बदलेगी और न ही वे किसी सितारे की कामना कर रहे थे।


जिम ने उन्हें जो सिखाया वह यह था: की यदि आप किसी भी चीज़ में सफल होना चाहते हैं - चाहे वह एक बेहद लाभदायक बिजनस बनाना हो, एक storm proof investment portfolio बनाना हो, या एक स्वस्थ जीवन शैली का निर्माण करना हो, जो आपको असीम ऊर्जा से भर दे। इसके लिए आपको उन लोगों का अध्ययन करने की आवश्यकता है जो पहले से ही इसे पा चुके हैं या वह रिजल्ट प्राप्त कर चुके है जिसे आप पाना चाहते है। दूसरे शब्दों में, सफलता सुराग छोड़ती है, यदि किसी व्यक्ति ने किसी दीर्घकालिक महत्वाकांक्षा में सफलता प्राप्त की है - चाहे वह वजन कम करना हो, व्यवसाय बढ़ाना हो, एक असाधारण संबंध बनाए रखना हो - तो भाग्य का इससे कोई लेना-देना नहीं है। वास्तव में वे आपसे कुछ तो अलग चीजें कर रहे हैं। इसलिए आपको ठीक-ठीक यह समझने की ज़रूरत है कि वे अलग तरीके से क्या कर रहे हैं, और ठीक-ठीक कैसे उन्होंने उन कौशलों में महारत हासिल की है जिनकी आपको उनकी सफलता को दोहराने की आवश्यकता होगी।


Listen why read books podcast


जिम ने उन्हें उन कुछ लोगों पर ध्यान केंद्रित करना शुरू करने के लिए सिखाया जो जीवन में कुछ करते हैं, न कि केवल उन लोगों पर जो केवल और केवल बस सफलता की बातें करते है। वे रोल मॉडल के वास्तविक मूल्य की सराहना करने लगे, वे विशेष लोग जो ट्रायल और एरर में आपकी सारी ऊर्जा खर्च करने के बजाय एक सिद्ध दृष्टिकोण की पहचान करने में आपकी सहायता कर सकते हैं। यदि पावर के लिए पहले से ही एक पक्की एक्सप्रेस लेन है, तो उसका पालन क्यों नहीं किया जाना चाहिए?

लेकिन याद रखिए, वे मिस्टर सॉल्यूशन थे! इसलिए वे मन लगाकर पढ़ते रहे, हर उस क्षेत्र में सबसे सफल लोगों का अध्ययन करते रहे, जिसमें वे महारत हासिल करना चाहते थे, और उनकी time- tested strategies को लागू करते रहे। बहुत पहले, उन्होंने कोच बनने के लिए पर्याप्त उत्तर एकत्र कर लिए थे। उन्होंने वन टू वन सेशन के साथ शुरुआत की और छोटे सेमिनारों और फिर कई सौ लोगों के समूह बनाए। और बाद में वे ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेताओं, अरबपति व्यापारियों और दुनिया के कुछ महान मनोरंजनकर्ताओं के साथ काम कर रहे थे, उन्हें उनकी कॉलिंग मिल चुकी थी।

वास्तव में यह एक सुंदर जीवन है, उन्हें स्वयं सीखी गई अंतर्दृष्टि और रणनीतियों को शेयर करने और दूसरों को उनकी आंतरिक शक्ति, साहस और उद्देश्य से जोड़ने में मदद करने का अवसर मिला। और, सबसे महत्वपूर्ण बात, यह पता लगाने के लिए कि कैसे तेज, और अधिक संतोषजनक परिणाम प्राप्त किए जा सकते है।


लेकिन सच तो यह है कि उस समय वे आज की तुलना में एक अलग व्यक्ति थे। अपने करियर के उन शुरुआती वर्षों में, उन्हें अभी तक यह पता नहीं था कि हम सभी के अंदर मौजूद प्राचीन fight- or- flight brain के भयानक हिस्से को कैसे संभालना है। उन्हें लगता है कि आपने भी इसका अनुभव किया होगा- उस समय जब आपकी अनिश्चितता वाइल्ड हो जाती है, जो आपके दिमाग को दूर-दूर के disaster scenarios का आविष्कार करने के लिए प्रेरित करती है!


तर्कसंगत रूप से, वे देख सकते थे कि यह कोई अस्थायी बात नहीं थी कि उनके करियर ने उड़ान भरी थी। वे सेवा करने के मिशन पर प्रतिदिन 18 या 20 घंटे काम कर रहे थे। लेकिन एक भयानक विचार उनके दिमाग में घूम रहा था: की इतनी जल्दी सफल होने का मतलब था की उनका युवावस्था में ही मरना तय था? एक बार जब उन्होंने खुद को उन तर्कहीन आशंकाओं पर ध्यान देने की अनुमति दी, तो उनका दिमाग उनमें इस तरह के विचारों को और अधिक पैदा करता रहा। जैसा कि उन्होंने वर्षों से लोगों को सिखाया है: जहां ध्यान जाता है, वहां ऊर्जा प्रवाहित होती है। इसलिए आपको चाहिए की आप बेहतर तरीके से अपना ध्यान केंद्रित करें!

लेकिन उनका यह पूर्वाभास crazy था! यह सिर्फ एक असामयिक मृत्यु के बारे में ही मेरी चिंता नहीं थी। उन्हें चिंता थी कि उनकी दुखद डेथ, धीमी और पीड़ादायक होगी। जैसे एक ट्रक की चपेट में आने और तुरंत मरने के बजाय, उन्होंने कल्पना की कि वे वर्षों तक कैंसर के दर्द में सड़ रहे है। उन्हें इसके बारे में बुरे सपने भी आटे थे। एक दिन तक, जब उनके दुःस्वप्न जीवन में आए और एक कैंसर डाइअग्नोसिस ने उनकी दुनिया को वास्तव में उलट दिया।


लेकिन यह वे नहीं थे जिन्हें डियग्नोसिस मिला।

लिज़, जो उस समय रॉबिन की प्रेमिका थी, एक दिन उनके अपार्टमेंट में आई, और बेकाबू होकर रोने लागि। "उसकी माँ को कैंसर था," उसने लेखक को रोते हुए बताया। "उसे लगता है कि उसकी माँ के पास जीने के लिए केवल नौ सप्ताह ही बाकी बचे हैं।"

लेखक लिज़ की माँ, गिन्नी से बहुत प्यार करते थे, जो वे इस समय सुन रहे थे उस पर उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था। उन्होंने अपने आँसुओं को रोकने के लिए संघर्ष करते हुए पूछा, "यह कैसे संभव है?" गिन्नी कंधे के ठीक नीचे पीठ पर एक बड़ा सा उभार लेकर डॉक्टर के पास गई थी। उसे बताया जा रहा था कि यह कैंसर है- और उसके गर्भाशय में भी ट्यूमर है। इसके अलावा, उन डॉक्टरों ने फैसला किया था कि यह उसके इलाज के लायक भी नहीं था क्योंकि उसका कैंसर बहुत आगे बढ़ गया था। वह केवल इतना कर सकती थी कि व अपने जीवन को जैसे तैसे जिए और अपने चालीसवें वर्ष में मरने की संभावना का बहादुरी से सामना करे।

इस भयानक खबर ने लेखक को अंदर तक झकझोर कर रख दिया था। लेकिन वे एक ऐसे व्यक्ति थे जो कभी भी समाधान खोजे बिना दर्द, पीड़ा या हार को स्वीकार नहीं कर सकते थे। उन्हें पता था कि कैंसर का लाइलाज होने के बावजूद दसियों हज़ार लोगों ने उसे हराया था, और उनमें से कई ने रेडीऐशन या कीमोथेरेपी के nontraditional alternatives का प्रयोग किया था। हो सकता है उनकी सफलता ने ऐसे सुराग छोड़े हों जो गिन्नी की मदद कर सकते हैं?

लेखक ने कैंसर के बारे में सब कुछ पढ़ना शुरू किया। उन्हें पढ़ते हुए एक कैनसस ऑर्थोडॉन्टिस्ट की एक छोटी किताब मिली, जिसने अग्नाशय के कैंसर को ठीक करने के लिए किया और एक nutritional program को इसका सारा श्रेय दिया गया था, जिसने स्पष्ट रूप से उसके सिस्टम को डिटॉक्सीफाई किया, जिससे उन्होंने अपने शरीर को concentrated pancreatic enzymes के साथ revitalized किया। लेखक कहते है की वैसे तो यह एक controversial approach थी, लेकिन इसे वे आज recommend नहीं कर सकते है क्योंकि आज के जमाने में इससे बेहतर विकल्प मौजूद हैं। लेकिन उस समय गिन्नी के पास खोने के लिए कुछ नहीं था और न ही कोई आशाजनक विकल्प था। इसलिए उसने इस experimental approach को इस दृढ़ विश्वास के साथ अपनाया कि यह उसे अवश्य बचाएगा।

अविश्वसनीय रूप से, कुछ ही दिनों में, वह बेहतर महसूस करने लगी। कुछ हफ़्तों के बाद, जैसे-जैसे उसके शरीर ने खुद को शुद्ध करना शुरू किया, वह और भी बेहतर महसूस करने लगी। ढाई महीने के बाद, गिन्नी के डॉक्टर उसके आमूल-चूल सुधार को देखकर हैरान रह गए। आखिरकार उसने उसे exploratory surgery के लिए राजी किया, ताकि वह देख सके कि क्या चल रहा था। जब उन्होंने उसका ऑपरेशन किया, तो उन्होंने पाया कि एक मुट्ठी के आकार का ट्यूमर एक नाखून के आकार तक सिकुड़ गया था। डॉक्टर के होश उड़ गए। गिन्नी ने समझाया कि वह खुद को ठीक करने के लिए क्या कर रही थी, लेकिन उन्हें यह सुनने में कोई दिलचस्पी नहीं थी। उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था कि उसके आहार और उसकी मानसिकता का इतना गहरा प्रभाव हो सकता है।

लेखक आगे कहते है की आज, आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि गिन्नी अस्सी के दशक में जीवित है और ठीक है—आज चालीस साल से अधिक समय बाद यह बताया गया कि उसके पास जीने के लिए केवल नौ सप्ताह शेष थे!

उस अनुभव ने लेखक को हमेशा के लिए बदल दिया। आज तक, वे गिन्नी के शरीर को ठीक करने वाले सटीक तंत्र की व्याख्या नहीं कर सके। लेकिन वे आपको यह बता सकते है की गिन्नी के ठीक होने से मेरा मूल विश्वास मजबूत हुआ कि सबसे कठिन परिस्थितियों में भी हमेशा एक उत्तर होता है। और इसने उन्हें सिखाया कि हमें खुले और जिज्ञासु मन से उन उत्तरों की खोज करने की आवश्यकता है, हालांकि बिना किसी प्रश्न के यह स्वीकार नहीं करना चाहिए कि "एक्सपर्ट" हमेशा सही ही होते है।


निश्चित रूप से, ऐसे समय आते हैं जब traditional “standard of care” सबसे अच्छा तरीका हो सकता है। लेकिन हम सभी को अपने लिए सोचना होगा और अपना उचित परिश्रम करना होगा। हम अपने स्वास्थ्य की निगरानी किसी और को आउटसोर्स नहीं कर सकते, चाहे उनके ऑफिस की दीवार पर कितने ही डिप्लोमा क्यों न सजाकर टाँगे गयें हों। हम इसपर विश्वास नहीं कर सकते कि उनके पास सभी सही समाधान हैं। इसी तरह, हम आँख बंद करके औसत व्यक्ति के उदाहरण का अनुसरण नहीं कर सकते। आप ऐसा इसलिए करेंगे, क्योंकि औसत व्यक्ति विशेष रूप से स्वस्थ नहीं है?

गिन्नी का जीवन कैंसर से उलट गया था और फिर वह ठीक हो गया इसने लेखक को यह सरल सत्य दिखाया कि हमारे स्वास्थ्य से ज्यादा कुछ भी मायने नहीं रखता है। जैसा कि आप कल्पना कर सकते हैं। इसने उन्हें आश्वस्त किया कि अपने शरीर की देखभाल करना सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। कुछ लोग ऐसा व्यवहार करते हैं जैसे काम या पैसा स्वास्थ्य से ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसके बारे में सोचें, की एक अरबपति हैं जिन्हें एक दर्दनाक पुरानी या लाइलाज बीमारी का पता चला है, और जो अपनी शारीरिक भलाई को बहाल करने के लिए सब कुछ छोड़ देता हैं।

जैसा कि पुस्तक में लेखक ने अधिक विस्तार से चर्चा की है की हमारी जीवन शैली के ऑप्शन जैसे विशेष रूप से पोषण, व्यायाम, नींद और मानसिकता- हमारे स्वास्थ्य को अनुकूलित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन क्षेत्रों में छोटे और सरल परिवर्तन हमारे जीवन की गुणवत्ता और हमारे दिन-प्रतिदिन की ऊर्जा के स्तर पर जबरदस्त प्रभाव डाल सकते हैं। इसलिए लेखक ने एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाने का फैसला किया जो उनकी ताकत, उनकी जीवन शक्ति, बढ़ने और साझा करने की उनकी क्षमता और जीवन को पूरी तरह से जीने की उनकी क्षमता को अधिकतम करने में मदद करेगी।

इसके बाद लेखक ने वर्कआउट करना शुरू किया। वे एक ऐसे समय में शाकाहारी बन गए जब यह अमेरिका में बिल्कुल फैशनेबल नहीं था – जब सुपरसाइज़्ड स्टेक, बारबेक्यूड रिब्स, चीज़बर्गर और डीप-फ्राइड चिकन की अमेरिका मातृभूमि हुआ करता था! लेखक ने खुद को इतना जोर से धक्का दिया कि ऐसे दिन भी आए, जब उन्हें बिना पीठ दर्द के दौड़ना या चलना भी मुश्किल हो गया। लेकिन वे बेहद मजबूत हो गए और ऊर्जा से भर गए। उन्होंने पहली बार महसूस किया कि वे वास्तव में अपनी शक्ति, अपने सार, अपनी जीवन शक्ति से जुड़े हुए है।


मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप इसे पढ़ने के लिए तुरंत अपने लिए इस बुक की एक कॉपी डिस्क्रिप्शन में दिए लिंक पर क्लिक करके अभी मंगवा लें।


</